भाषायें

एप्लिकेशन गाइड

पर्यावरण की निम्नलिखित परिस्थितियों में पेंटिंग नहीं की जानी चाहिए:

  • पर्यावरण का तापमान 50C से कम होने पर।
  • सतह का तापमान ड्यू प्वाइंट के ऊपर 30C से कम होने पर।
  • सापेक्ष आर्द्रता 85% से अधिक होने पर।
  • पेंटिंग से पहले सतहों को गीला किया जाना चाहिए।
  • सतह का तापमान 500C से ऊपर होने पर।

पेंट्स और थिनर्स की जांच
 यह जांच लें कि उपलब्ध पेंट और थिनर, विनिर्देश में दिए गए विवरण से मेल खा रहे हैं या नहीं।

मिक्सिंग
 यांत्रिक स्टरर या पैडल मिक्सर का उपयोग करके, विशिष्ट अनुपात के अनुसार पेंट के सभी घटकों को मिलाएं। पेंट के मिक्सचर को समरूप बनाने के लिए उसे पर्याप्त रूप से हिलाएं।

थिनिंग

कभी-कभी तापमान में आए बदलाव के अनुसार पेंट की कार्यक्षमता को सुधारने के लिए उसे पतला करने यानि थिनिंग की ज़रूरत पड़ती है। ध्यान रहे कि अत्यधिक पतला किए जाने पर पेंट की परत बिगड़ सकती है और उसकी छुपाने की क्षमता कम हो सकती है।

फ़िल्टरिंग
 यदि पेंट में स्किन के छोटे टुकड़े या छोटी गांठें मौजूद हों तो उसे एक कपड़े के फ़िल्टर या 60-100 मैश वाले तारों के फ़िल्टर से छाना जाना चाहिए।

पोट लाइफ़
 अलग कंटेनरों में सप्लाई किए गए पेंट के दो या तीन कंपोनेंट्स को मिश्रित होने के बाद, निर्दिष्ट समय सीमा के भीतर उपयोग किया जाना चाहिए।

अगला कोट लगाने का अंतराल
 पेंट का अगला कोट लगाने से पहले निर्माता के सुझाव के अनुसार सूखने का समय देना चाहिए।

सूखी परत की मोटाई का निरीक्षण
 पेंट की सूखी परत को ड्राय फ़िल्म थिकनेस गॉज से मापा जाना चाहिए। अगर कोटिंग की ज़रूरी मोटाई हासिल नहीं हुई हो तो उसे वायुरहित स्प्रे, ब्रश या रोलर के द्वारा ठीक करना चाहिए।

इस्तेमाल

  • ब्रशिंग
    • ब्रश को पेंट में ज़्यादा गहराई तक न डुबोएं, ऐसा करने पर ब्रश के ब्रिस्टल्स भारी हो जाएंगे और पेंट ब्रश के अगले हिस्से तक भर जाएगा और उसे निकालना बेहद मुश्किल होगा।
    • पेंट लगाते समय ब्रश को सतह से कुछ डिग्री के कोण पर रखा जाना चाहिए। इसके बाद सतह के पेंट किए जाने वाले भाग को ब्रश के हल्के स्ट्रोक्स से कवर करें। इसके बाद पेंट को फ़ैला कर सतह पर एक समान कोटिंग करें।
    • सतह को पेंट से पूरी तरह कवर करने के बाद, पेंट किए गए भाग पर एकरूपता लाने के लिए ब्रश को आड़ा चलाएं और अंत में ब्रश के निशानों और छूट गए भागों को कवर करके चिकना बनाने के लिए हल्के हाथ से ब्रश चलाएं।
    • पेंटिंग खत्म होने के बाद ब्रश को विशिष्ट थिनर्स से साफ़ करें।
  • स्प्रे
    • पेंट स्प्रे के लिए उपयुक्त उपकरण का उपयोग किया जाना चाहिए। ऐसा उपकरण जो पेंट को उचित रूप से एटमाइज़ करने में सक्षम हो और उसमें प्रेशर रेगुलेटर्स, गॉज और अन्य निर्दिष्ट पार्ट भी मौजूद हों।
    • पेंटिंग के दौरान पेंट सामग्री को स्प्रे पॉट्स या अन्य कंटेनर्स में ठीक तरह से मिश्रित करके रखा जाना चाहिए जबकि पेंट को लगातार या यंत्रों की मदद से थोड़े अंतराल में मिलाते रहना चाहिए।
    • स्प्रे के उपकरणों को साफ़ रखा जाना चाहिए।
    • नली की लंबाई, बाहरी तापमान और पेंट के चिपचिपेपन के हिसाब से वायुरहित स्प्रे पंप का भीतरी प्रेशर भिन्न होगा। एयर प्रेशर में सुधार करते रहना चाहिए ताकि सामग्री का समान एटमाइज़ेशन हो।
    • स्प्रे गन को सतह की समानांतर दिशा में लंबवत रखते हुए चलाना चाहिए ताकि चिकनी और समान कोटिंग प्राप्त की जा सके। प्रत्येक पास का ओवरलैप 50% होना चाहिए।
    • लोगों की तरफ़ स्प्रे न करने का ध्यान रखें क्योंकि स्प्रे किया जा रहा पेंट या थिनर हाई प्रेशर में है।
    • कई कंपोनेंट वाले पेंट को स्प्रे करने के बाद सभी वायुरहित स्प्रे मशीनों को निर्दिष्ट थिनर्स से साफ़ करना चाहिए।

परत की मोटाई पर नियंत्रण
 पेंट की गीली परत को मापने के लिए रोलर गॉज या कॉम्ब गॉज जैसे वेट फ़िल्म थिकनेस गॉज की मदद लें और पेंट लगाने के कुछ सेकेंडों के भीतर ही माप लें ताकि सॉल्वेंट के वाष्पीकरण के प्रभाव को कम किया जा सके।

सूखने की प्रक्रिया
 पेंट की गई किसी भी सतह को तब तक जस का तस छोड़ देना चाहिए जब तक परत पूरी तरह से न सूख जाए। जिन जगहों पर पेंट के सूखने के लिए आदर्श परिस्थिति नहीं है वहां पर उचित वेंटिलेशन का प्रबंध कर पेंट को सुखाया जाना चाहिए।

 पर्यावरण के हिसाब से निर्देशित कोटिंग सिस्टम (एसएबीएस आईएसओ 12944-5 से अनुमानित तुलना)

सुरक्षा की सुझाई गई विधि

कुल टीएफ़टी

(यूएम)

पर्यावरण

समतुल्य प्रणाली

एसएबीएस आईएसओ 12944-5
*सी1,10साल; सी3,15साल; सी5,12साल

स्टील

एल्किड+एल्किड (एल्क+एल्क) 70 - 100 *     S1.05

स्टील

ज़िंक फ़ॉस्फ़ेट+एल्किड (ZnPO4+एल्क) 100 - 125 *      

स्टील

इपॉक्सी+इपॉक्सी (ईपी+ईपी) 225 - 275 *     S1.34

स्टील

इपॉक्सी+पोलीयूरीथेन (ईपी+पीयू) 150-225   *   S1.27

स्टीलइपॉक्सी+इपॉक्सी+पोलीयूरीथेन (ईपी+ईपी+पीयू)

190 - 265   *   S1.34

स्टील

इपॉक्सी ज़िंक+एचबीइपॉक्सी (ईपी+एचबी ईपी) 180 - 220   * * S3.21

स्टील

इनऑर्गेनिक ज़िंक सिलिकेट+इपॉक्सी एमआईओ+पोलीयूरीथेन

(आईओज़ेड+एमआईओ+पीयू)
200 - 275     * S7.12

स्टील

इपॉक्सी+इपॉक्सी+पोलीयूरीथेन

(ईपी+ईपी+पीयू)
450 - 530     *  

स्टील

इपॉक्सी ज़िंक+इपॉक्सी+पोलीयूरीथेन

(ईपीज़ेड+ईपी+पीयू)
195 - 235     * S7.07
ज़िंक चढ़ा हुआ स्टील

इपॉक्सी+एचबी इपॉक्सी

(ईपी+एचबी ईपी)
260 - 320   * * S9.11
ज़िंक चढ़ा हुआ स्टील इपॉक्सी+इपॉक्सी (ईपी+ईपी) 325 - 425   * * S9.12
ज़िंक चढ़ा हुआ स्टील इपॉक्सी+पोलीयूरीथेन (ईपी+पीयू) 225 - 275   * * S9.12

 

जैसे ईएन आईएसओ 12944-2:1998 में परिभाषित

*सी1 – बहुत कम जंग वाला वातावरण

सी3 – मध्यम जंग वाला वातावरण

सी1 – बहुत उच्च(समुद्री) जंग वाला वातावरण

SEND US YOUR QUERIES

हमें अपने प्रश्न भेजें